अनूठा है आज का सूर्यग्रहण, ये हैं देखने के सही तरीके

अनूठा है आज का सूर्यग्रहण, ये हैं देखने के सही तरीके



  • जुगनू शर्मा, योगा प्‍वाइंट


आज लग रहा सूर्यग्रहण कई मामलों में अनूठा है। जो बात इस ग्रहण को बेहद दुर्लभ बनाती है वह यह है कि इसके बाद भारत से इस शताब्दी में केवल तीन सूर्यग्रहण और दिखाई देंगे वे भी लंबे अंतराल के बाद। अगर आप इस ग्रहण को देखना चाहते हैं पूरी सावधानी बरत कर ही ऐसा करें। इस लेख में हम आपको सूर्य ग्रहण के बारे दिलचस्‍प तथ्‍य और इसे देखने के तरीके बताएंगे।

आज के ग्रहण की शुरुआत सुबह 10.20 बजे से हो चुकी है और इसकी समाप्ति दोपहर 01.49 बजे पर होगी। ग्रहण अपने पूर्ण प्रभाव में दोपहर 12.02 बजे हो चुका है। खण्डग्रास ग्रहण की कुल अवधि 03 घण्टे 28 मिनट की रहेगी।

  • सूर्य ग्रहण को देखते समय बरतें सावधानी :

सूर्य ग्रहण को सीधे आंखों से देखने की सलाह नहीं दी जाती। दरअसल, सूर्यग्रहण के दौरान सूर्य से काफी हानिकारक सोलर रेडिएशन निकलते हैं जिससे कि आंखों के नाजुक टिशू डैमेज हो जाते हैं और आंखों को जबरदस्त नुकसान पहुंच सकता है।

विशेषज्ञों के मुताबिक सूर्य ग्रहण देखने के लिए नॉर्मल गॉगल्‍स या चश्‍मे का इस्तेमाल बिल्‍कुल न करें बल्कि इसके लिए सोलर-व्युइंग ग्लासेस, पर्सनल सोलर फिल्टर्स या आइक्लिप्स ग्लासेस का इस्तेमाल करना चाहिए। इस तरह के चश्मे को सोलर फिल्टर युक्त चश्मा कहा जाता है। पिनहोल, टेलेस्कोप और दूरबीन से भी सूर्यग्रहण देखना हानिकारक साबित हो सकता है।

ग्रहण के दौरान रेडिएशन वाले उपकरणों से दूर रहें। ग्रहण के दौरान निकलने वाली किरणें हानिकारक होती हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि ग्रहण के दौरान किसी भी प्रकार के नुकसान से बचने के लिए रेडिएशन वाले उपकरणों टीवी, रेडियो और मोबाइल से दूर रहें।

सूर्य ग्रहण देखने का देसी तरीका सबसे सुरक्षित

एक कार्ड शीट में छेद करें और उसे सूर्य के नीचे पकड़ें। कुछ दूरी पर एक सफेद कागज की स्क्रीन रखें। सूर्य की छवि इस शीट पर देखी जा सकती है। शीट एवं स्क्रीन की दूरी को एडजस्ट करके छवि को बड़ा किया जा सकता है। 

किसी झाड़ी या पेड़ की छाया को देखें। पत्तों के बीच खाली स्थान किसी छेद की तरह कार्य करते हैं। इसमें से होकर सूर्य ग्रहण की कई छवियां जमीन पर देखीं जा सकती हैं। आप ऐसे चित्र बनाने के लिए एक छलनी का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। 

एक कॉम्पैक्ट मेकअप किट मिरर लें और उसे काले पेपर, जिसके बीच में छेद किया गया हो, से कवर करें। छाया में कुछ दूरी पर स्थित किसी दिवार पर सूर्य की छवि को प्रतिबिंबित करें। इस तरह आप ग्रहण की प्रेक्षेपित छवि प्राप्त कर सकते हैं। 

अगर आप सूर्य ग्रहण नहीं देख पाते हैं तो आप इंटरनेट की मदद से उसकी लाइव स्ट्रीमिंग देख सकते हैं। नई दिल्ली नेहरू प्लेनोटोरियम और नैनीताल स्थित आर्यभट्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ ऑब्जरवेशनल साइंसेज ( एरीज - ARIES) सूर्य ग्रहण का Live टेलीकास्ट कर रहे हैं। आप उनके यूट्यब चैनल पर जाकर सूर्य ग्रहण का नजारा देख सकते हैं।

नेहरू तारामंडल, मुंबई निदेशक अरविंद परांजपे के मुताबिक "अक्सर पब्लिक आउटरीच एंड एजुकेशन कमेटी ऑफ दी एस्ट्रोनॉमिकल सोसायटी ऑफ इंडिया और अन्य खगोलीय संस्थान/तारामंडल और अन्य लोकप्रिय विज्ञान एजेंसियां आमतौर पर ग्रहण को सुरक्षित तरीके से देखने की व्यवस्था करते हैं। हालांकि, इस बार लॉकडाउन के कारण, हम सौर फिल्टर नहीं बना सके हैं। इसलिए, हमारी लोगों से यह गुजारिश हैं कि महामारी की स्थिति को देखते हुए वह ग्रहण को देखने के लिए बड़ी संख्या में इकट्ठा न हों। अपने घर से ही सुरक्षापूर्वक ग्रहण को देखने के लिए आसान सुझाव हैं।

यह भी रखें ध्‍यान

ग्रहण देखने के लिए और आंखों को किसी भी नुकसान से बचाने के लिए ग्रहण देखने वाले चश्मों (आईएसओ प्रमाणित) या उचित फिल्टर्स के साथ कैमरे का इस्तेमाल करें।

वलयाकार सूर्य ग्रहण देखने का सबसे सुरक्षित तरीका पिनहोल कैमरे से स्क्रीन पर प्रोजेक्शन या टेलिस्कोप है।

इसमें यह भी कहा गया है कि नंगी आंखों से सूरज को न देखें, ग्रहण देखने के लिए एक्स-रे फिल्म्स या सामान्य चश्मों (यूवी सुरक्षा वाले भी नहीं) का इस्तेमाल न करें। इसके अलावा ग्रहण देखने के लिए पेंट किये ग्लास का भी इस्तेमाल न करें।



Leave a Reply

Close Menu